मुख्य पृष्ठ ~ हमारे बारे में ~ रसायन विज्ञान ~ संसाधन ~ डाउनलोड ~ अस्वीकरण ~ संपर्क ~ अद्यतन ~ शब्दावली

कार्बोहाइड्रेट का गुणात्मक विश्लेषण

कार्बोहाइड्रेटHydrate को सकेराइड भी कहा जाता है।

टॉलेन, बेनेडिक्ट या फेलिंग अभिकर्मकReagent के साथ अभिक्रियाशीलता के आधार पर, कार्बोहाइड्रेटों को इस प्रकार वर्गीकृत किया जाता है;

अपचयनकारी शर्कराएं

टॉलेन, बेनेडिक्ट या फेलिंग अभिकर्मकों का अपचयCatabolismन कर सकने वाले कार्बोहाइड्रेटों को अपचयनकारी शर्कराएं (मुक्त एल्डिहाइड या कीटोन समूह वाली शर्करा ) कहा जाता है। सभी मोनोसकेराइड और डाईसकेराइड अपचयनकारी शर्कराएं हैं। कुछ उदाहरण माल्टोज और लैक्टोज हैं।

गैर-अपचयनकारी शर्कराएं

जो कार्बोहाइड्रेट टॉलेन, बेनेडिक्ट या फेलिंग अभिकर्मकों का अपचयन नहीं कर सकते, उन्हें गैर-अपचयनकारी शर्कराएं कहा जाता है। सुक्रोज गैर-अपचयनकारी शर्करा है।

कार्बोहाइड्रेट की जांच

मोलिस परीक्षण

मोलिस अभिकर्मक α-नैफथोल का 10% अल्कोहलिक विलयनSolution होता है। कार्बोहाइड्रेट की उपस्थिति का पता लगाने के लिए किया जाने वाला यह आम रासायनिक परीक्षण है। कार्बोहाइड्रेट सल्फ्यूरिक अम्ल से निर्जलीकरणDehydration से गुजरते हैं जिससे फरफ्युरल (फरफ्युरलडीहाइड) बनता है जो α-नैफथोल के साथ अभिक्रिया करता है जिससे बैंगनी रंग का एक उत्पाद बनता है।

फेलिंग परीक्षण

अपचयनकारी शर्करा की उपस्थिति का पता लगाने के लिए किया जाने वाला यह महत्वपूर्ण परीक्षण है। फेलिंग का विलयन A कॉपर सल्फेट का विलयन होता है और फेलिंग का विलयन B पोटेशियम सोडियम टार्ट्रेट होता है। गर्म करने पर, कार्बोहाइड्रेट कॉपर (II) आयनों के गहरे नीले विलयन का अघुलनशील कॉपर ऑक्साइड के लाल तलछट में अपचयन कर देता है।

बेनेडिक्ट परीक्षण

बेनेडिक्ट परीक्षण अपचयनकारी शर्करा से गैर अपचयनकारी शर्करा को अलग करता है। बेनेडिक्ट अभिकर्मक में नीले रंग का कॉपर (II) आयन (Cu2 +, क्युप्रिक आयन) होता है जो कार्बोहाइड्रेट द्वारा कॉपर (I) आयन (Cu+, क्युप्रस आयन) में अपचयित हो जाता है। लाल रंग के क्यु्प्रस (कॉपर (I) ऑक्साइड) के रूप में ये आयन तलछट का निर्माण करते हैं।

टॉलेन परीक्षण

टॉलेन अभिकर्मक अमोनियायुक्त सिल्वार नाइट्रेट का विलयन होता है। कार्बोहाइड्रेट के साथ अभिक्रिया करने पर विलयन में से तात्विक सिल्वर, कभी कभी अभिक्रिया के बर्तन की भीतरी सतह पर अवक्षेपPrecipitateित हो जाती है। इससे अभिक्रिया के बर्तन की भीतरी दीवार पर चांदी के दर्पण का निर्माण होता है।

आयोडीन परीक्षण

स्टार्चStarch की उपस्थिति का पता लगाने के लिए आयोडीन परीक्षण प्रयोग किया जाता है। आयोडीन पानी में बहुत ज्यादा घुलनशील नहीं है इसलिए पोटेशियम आयोडाइड की उपस्थिति में पानी में आयोडीन घोलकर आयोडीन का विलयन तैयार किया जाता है नहीं है। पोटेशियम आयोडाइड के जलीयAqueous विलयन में घुली आयोडीन स्टार्च के साथ अभिक्रिया करती है जिससे स्टार्च / आयोडीन का मिश्रणMixture बनता है जो अभिक्रिया मिश्रण को विशेष नीली, काली रंगत देता है।


Copyright © 2007 - 2019 सर्वाधिकार सुरक्षित. Dr. K. Singh | Organic Synthesis Insight.