मुख्य पृष्ठ ~ हमारे बारे में ~ रसायन विज्ञान ~ संसाधन ~ डाउनलोड ~ अस्वीकरण ~ संपर्क ~ अद्यतन ~ शब्दावली

आयन

आयन (ion) ऐसे परमाणुAtom या अणुMolecule है जिसमें इलेक्ट्रानों और प्रोटोनों की संख्या असामान होती है। इस से आयन में विद्युत आवेश (चार्ज) होता है। अगर इलेक्ट्रॉन की तादाद प्रोटोन से अधिक हो तो आयन में ऋणात्मक (नेगेटिव) आवेश होता है और उसे ऋणायन (anion, ऐनायन) भी कहते हैं। इसके विपरीत अगर इलेक्ट्रॉन की तादाद प्रोटोन से कम हो तो आयन में धनात्मक (पोज़िटिव) आवेश होता है और उसे धनायन (cation, कैटायन) भी कहते हैं।

एक इलेक्ट्रॉन और एक प्रोटोन में बराबर का विद्युत आवेश (चार्ज) होता है। इसलिये किसी आयन का अवेश उसमें मौजूद प्रोटोनों की संख्या को उसमें मौजूद इलेक्ट्रॉनों से घटाकर बताया जाता है। अगर प्रोटोनों की संख्या अधिक हो तो यह आवेश धनात्मक (पोज़िटिव) होता है और अगर इलेक्ट्रॉनों की संख्या अधिक हो तो यह आवेश ऋणात्मक (नेगेटिव) होता है।

ऋणायन (−): इनमें इलेक्ट्रॉन अधिक और प्रोटोन कम होते हैं। अंग्रेज़ी में इन्हें कैटायन (cation) कहते हैं क्योंकि धनात्मक आवेश वाले यह आयोन अगर किसी विद्युत क्षेत्र में डाले जाएँ तो ऋणात्मक (निगेटिव) आवेश वाले कैथोडCathode की ओर आकर्षित होते हैं। धनायन (+): इनमें प्रोटोन अधिक और इलेक्ट्रॉन कम होते हैं। अंग्रेज़ी में इन्हें ऐनायन (anion) कहते हैं क्योंकि धनात्मक आवेश वाले यह आयोन अगर किसी विद्युत क्षेत्र में डाले जाएँ तो धनात्मक (पोज़िटिव) आवेश वाले ऐनोडAnode की ओर आकर्षित होते हैं।


Copyright © 2007 - 2020 सर्वाधिकार सुरक्षित. Dr. K. Singh | Organic Synthesis Insight.